Wednesday, October 28, 2020 - 18:59

कोरिया (छत्तीसगढ़) आमतौर पर प्रदेश में पंचायत की चुनावी रणभेदी इन दिनों चरम पर है। राजनीति की इस दस्तूर मे प्रतिद्वंदियों की मुंह नोंच लेने वाली भाषण इन दिनों हाट बाजारों में गरमाई है। चंद ही दिनों बची चुनावी सरगर्मियां कमोवेश उफान पर है । बहरहाल यह चुनाव एक फरवरी को प्राय:थम जायेगा। सूत्रों की माने तो पूरे प्रदेश के भीतर पंचायती चुनाव तीन फरवरी को अंतिम चरण के साथ संपन्न हो जावेगी । फिलहाल जिले में सतारुढ कांग्रेस पार्टी जिला पंचायत की पहली चुनावी चरण में भाजपा से पिछड़ चुकी है। जिससे कांग्रेस नेताओं की चेहरों की हवाईयां उड़ रही है। जिला पंचायत में बने रहने का सपना फिलहाल मुशीबत से कम नहीं है। अब आलम यह है कि अगली चुनाव 31जनवरी और 3 फरवरी को होगी। इन दोनों चरणो की चुनावों में महज अपने समर्थित उम्मीदवारों की चुनावी वैतरणी पार करने के लिए पार्टी नेताओं द्वारा आरपार की चुनावी लड़ाई में पार्टी नेताओं द्वारा कौन सी दांव आख्तियार होता हैं। फिलहाल यह केवल इनकी राजनैतिक विवेक पर निर्भर करती है।अलबत्ता मतदाताओं की रुझान सतारुढ़ सरकार की योजनाओं की ताकत व जमीनी मुद्दों पर निर्भर करती है। 28 जनवरी को जिले के भीतर प्रथम चरण की पंचायती चुनाव में कुल 4 में से भाजपा 2 सीट पर कब्जा जमा लिया।वहीं सतारुढ़ कांग्रेस के पाले में 1सीट मिलना कुल मिलाकर स्तब्ध और निराश कर दिया है। बहरहाल 6 सीटो के लिए दो चरणों में होने वाले चुनाव में जनता की मत किस पाले में जाता है। यह कह पाना अभी भी संशय से कम नहीं है।
आज रतनपुर साप्ताहिक हाट बाजार में गोंडवाना छत्तीसगढ़ न्यूज द्वारा अनौपचारिक तौर पर भाजपा प्रत्याशी रेणुकासिंह एवं कांग्रेस प्रत्याशी सुशीलादेवी से अलग अलग चर्चा कर जानना चाहा कि चुनावी गतिविधियों पर जानकारी लिया। कुल मिलाकर चुनावी दौर में भाजपा प्रत्याशी के बढ़ते कदम को रोक दिया है। हमारे स्थानीय न्यूज प्रतिनिधियों ने दोनों उम्मीदवारों की निर्वाचन हल्कों के कुछ गॉव में दौरा कर चुनावी प्रभाव का जायजा लिया। अलबत्ता कल तक कुछ क्षेत्रों में भाजपा प्रत्याशी का दबदबा था।स्थानीय विधायक की दौरे के बाद लोगों की जुबांन सता के पीछे भागते नजर आये। वहीं गोंडवाना गणतंत्र पार्टी की समर्थित उम्मीदवार कैलाशकुवर चुनावी दौर में कमोवेश प्रभाव काफी कम दिखा। वहीं मूल निवासी युवाआदिवासी संस्थान द्वारा गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के समर्थित महिला उम्मीदवार कैलाशकुवर द्वारा गोंड जाति धार्मिक चिन्ह सल्ला गांगरा का चुनाव में टांग कर घूमने पर विरोध करते हुये आपति दर्ज कर अनुविभागीय अधिकारी से इस झंडे को लगाने पर रोक लगाने की मांग किया है। तथा लगाने पर उचित कार्यवाही की मांग आयोग से किया गया है।

शेयर करे

Add a Comment

जनता की राय

क्या पेट्रोल को GST में लाना चाहिए ?

User login